वक़्त तो दरिया है, बह जाता है…

अगर तुम कह देते जो कहना चाहते

तो बात यहाँ तक न पहुँचती

एक दुसरे की मौजूदगी

हमें यूँ बेचैन न करती

ठुकरा दिया होता तुमने अपने अहम् को

हमने अपने डर को

तो आज मैं लिख न रहा होता

और तुम पढ़ न रहे होते…

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s