वक़्त तो दरिया है, बह जाता है…

अगर तुम कह देते जो कहना चाहते तो बात यहाँ तक न पहुँचती एक दुसरे की मौजूदगी हमें यूँ बेचैन न करती ठुकरा दिया होता तुमने अपने…… Read more “वक़्त तो दरिया है, बह जाता है…”